मन से तेज क्या है? मन से भी तेज गति से क्या चलता है?

Posted on

मनुष्य का दिमाग अविश्वसनीय रूप से शक्तिशाली और तेज़ है। हमारा मन हमें जानकारी संजोने, निर्णय लेने और हमारे आसपास की दुनिया से जुड़ने में मदद करता है। आज हम जो भी दुनिया में देख पा रहें हैं, दुनिया से सीख पा रहें हैं, सब कुछ मन की ही देन है। परन्तु, शोध ने यह सिद्ध कर दिया है कि दुनिया में ऐसी चीजें भी हैं जो दिमाग से तेज गति से काम करती हैं। तो चलिए जानते हैं एक नयी महत्वपूर्ण रोचक जानकारी कि मन से तेज क्या-क्या चीज़ें हैं?

आखिर मन से तेज़ गति किसकी है?

उत्तर सरल है!

कंप्यूटर और मशीनें – कंप्यूटर कुछ ही सेकंड में बड़ी मात्रा में सूचनाओं को ट्रांसफर और स्टोर कर सकते हैं, और मशीनें अविश्वसनीय गति और सटीकता के साथ जटिल से जटिल कार्य लगातार कर सकती हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि कंप्यूटर और मशीनों को उन समस्याओं से नहीं जूझना पड़ता जिसका सामना मनुष्य का दिमाग करता है। मशीनें थकती नहीं हैं, वे विचलित नहीं होती हैं, और वे भावनाओं या पूर्वाग्रहों (prejudice) के आधार पर गलतियाँ नहीं करती हैं।

इसका सबसे प्रभावशाली उदाहरण सुपर कंप्यूटर है। सुपरकंप्यूटर अविश्वसनीय रूप से शक्तिशाली मशीनें हैं जो प्रति सेकंड अरबों से भी ज़्यादा की संख्या में गणनाएं, एक्सप्रेशन, कॅल्क्युलेशन्स एवं प्रश्नों को हल कर सकती हैं। यह अपने अंदर असीमित इनफार्मेशन को सेकण्डों में स्टोर व प्रोसेस कर सकते हैं। उनका उपयोग कई प्रकार के कार्यों के लिए किया जाता है, मौसम का अनुकरण करने से लेकर नई दवाओं की खोज करने तक। कई मामलों में पाया गया है कि सुपरकंप्यूटर इन कार्यों को इंसानों की तुलना में बहुत तेजी से और अधिक सटीकता से करते हैं।

एक अन्य उदाहरण रोबोट है। अत्यंत तेज़ गति और सटीकता के साथ कई प्रकार के कार्य करने के लिए रोबोट को प्रोग्राम किया जा सकता है। उनका उपयोग उत्पादों को इकट्ठा करने के लिए निर्माण कार्य में, स्वास्थ्य सेवा में सर्जरी में सहायता के लिए, और यहां तक ​​कि व्यापार-आर्थिक क्षेत्र में भी ग्राहकों को उनकी ज़रूरत के उत्पादों को खोजने में मदद करने के लिए किया जा सकता है। रोबोट दिन में 24 घंटे, सप्ताह में 7 दिन बिना थके, बिना गलतियां किए काम कर सकते हैं।

हालाँकि, सिर्फ कंप्यूटर और मशीनों के आलावा इंटरनेट भी एक ऐसी ही चीज़ है जोकि मनुष्य के मन-मस्तिष्क से काफी तेज़ है। एक बटन पे क्लिक करके, आप दुनिया में कहीं से भी कहीं की भी जानकारी इकठ्ठा कर सकते हैं। इसके इस्तेमाल से आप सवालों के जवाब पा सकते हैं, सोशल मीडिया के ज़रिये दूसरों से जुड़ सकते हैं और कुछ ही सेकंड में नए विषयों के बारे में जान सकते हैं।

वस्तु प्रोसेसिंग गति प्रोसेसिंग शक्ति की दर मेमोरी क्षमता
मानव का मन लगभग 120-140 मिलीसेकंड प्रति टास्क सीमित कुछ पेटाबाइट्स
औसत डेस्कटॉप कंप्यूटर टास्क्रोसेकंड से मिलीसेकंड प्रति टास्क मध्यम से उच्च गीगाबाइट्स से टेराबाइट्स
गेमिंग लैपटॉप माइक्रोसेकंड से मिलीसेकंड प्रति टास्क उच्च गीगाबाइट्स से टेराबाइट्स
वर्कस्टेशन कंप्यूटर माइक्रोसेकंड से मिलीसेकंड प्रति टास्क बहुत उच्च टेराबाइट्स से पेटाबाइट्स
सुपरकम्प्यूटर नैनोसेकंड से माइक्रोसैकेण्ड प्रति टास्क बहुत ज़्यादा उच्च पेटाबाइट्स से एक्जाबाइट्स

कंप्यूटर और मशीनों का विकास और शक्ति, हमारे काम करने और जीने के तरीके को बदल रही है। यह हमें जटिल से जटिल समस्याओं को हल करने और उन कार्यों को पूरा करने का आसान ज़रिया देता है जो कभी असंभव समझे जाते थे। साथ ही, यह कार्यों के भविष्य, नौकरियों के लिए खतरा, हमारे जीवन में प्रौद्योगिकी की भूमिका और कृत्रिम बुद्धि की नैतिकता (कहीं ए०आई० मानव सभ्यता के लिये खतरनाक तो नहीं) जैसे नए प्रश्न भी उठा रहा है। इसके अतिरिक्त, जिस गति से कंप्यूटर और मशीनें सूचनाओं को संसाधित (प्रोसेस) कर सकती हैं, वह चिकित्सा, ऊर्जा और परिवहन जैसे क्षेत्रों में नए नवाचारों (इन्नोवेशन) को लाने और प्रगतिशील बनाने में मदद कर रही है।

उदाहरण के लिए, नए उपचार और इलाज विकसित करने के लिए बड़ी मात्रा में चिकित्सा डेटा का विश्लेषण करने के लिए कंप्यूटर का उपयोग किया जा रहा है। इन चीज़ों का उपयोग अधिक कुशल ऊर्जा प्रणाली बनाने और स्वायत्त वाहन (ऑटो ड्राइविंग) विकसित करने के लिए भी किया जा रहा है जो हमारे यात्रा करने के तरीके को बदल रहा है।

 मन के विचारों की गति

अंत में यही लिखना चाहूंगा कि हमारा दिमाग अविश्वसनीय रूप से शक्तिशाली है पर कुछ चीजें हैं जो दिमाग-मन-मस्तिष्क से भी तेज़ हैं। हालाँकि इन चीज़ों का निर्माण भी मनुष्य के दिमाग की ही देन है। कंप्यूटर, मशीनें और इंटरनेट हमारे जीने और काम करने के तरीके को बदल रहे हैं, और उनमें भविष्य में रोमांचक और नई प्रगति लाने की क्षमता है। इसलिए, अगली बार जब आप किसी जटिल समस्या को हल करने या किसी कठिन कार्य को पूरा करने का प्रयास कर रहे हों, तो मदद के लिए प्रौद्योगिकी (टेक्नोलॉजी) की शक्ति की ओर मुड़ने से न पीछे हटें।

मानव दिमाग के विषय में कुछ चौकाने वाले तथ्य

इंसान के मस्तिष्क के अंदर विचारों का बहाव लगभग 120 मीटर/सेकंड की रफ़्तार से होता है। मानव दिमाग एक बहुत ही ज़्यादा विशाल अंग है, जिसमें करीब 86 बिलियन न्यूरॉन्स होते हैं। न्यूरॉन – दिमाग के सेल को कहते हैं, जोकि दिमाग के निर्माण की सबसे छूती इकाई है – जैसे मकान की ईंट होती है। माना जाता है कि इंसानी मस्तिष्क के अंदर लगभग 2.5 पेटाबाइट डाटा स्टोर करने की क्षमता है।


मन से तेज – पूछे गए प्रश्न

  • मन से तेज क्या है ?

    सुपरकम्पूटर एक ऐसी चीज़ है जो मन से भी तेज है, हालाँकि ऐसी और भी बहुत सी चीज़ें हैं जो मन से तेज़ हैं।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *