फोटोसिंथेसिस क्या होता है? फोटोसिंथेसिस इन हिंदी

Posted on

दोस्तों, फोटोसिंथेसिस एक महत्वपूर्ण बायोलॉजिकल (जैविक) प्रक्रिया है। इस प्रक्रिया के ज़रिये पौधे अपना खाना बनाते हैं। इसे हिंदी में प्रकाश संश्लेषण कहते हैं। आगे पोस्ट में हम इस प्रक्रिया के बारे में डिटेल में जानेंगे।

वह विधि जिसके द्वारा पेड़-पौधों भोजन का निर्माण करते हैं, उसे प्रकाश संश्लेषण या फोटोसिंथेसिस कहते हैं। प्रकाश संश्लेषण को अंग्रेजी में फोटोसिंथेसिस कहते हैं। प्रकाश संश्लेषण प्रक्रिया के द्वारा हरे पौधे और कुछ अन्य जीव सूर्य की किरणों द्वारा मिलने वाली प्रकाश ऊर्जा को ग्लूकोज़ के रूप में रासायनिक ऊर्जा में परिवर्तित करते हैं। यह पृथ्वी पर सबसे महत्वपूर्ण जैविक प्रक्रियाओं में से एक है, क्योंकि इसी प्रक्रिया के कारण पौधे जीवित रहते हैं और उनमें बढ़त होती है। अंततोगत्वा, इस प्रक्रिया से ही खाद्य शृंखला में भोजन का प्राथमिक स्रोत उत्पन्न होता है तथा वातावरण में ऑक्सीजन उत्सर्जित होती है।

प्रकाश संश्लेषण के लिए सूत्र व समीकरण (रासायनिक प्रतिक्रिया) निम्नानुसार लिखी जा सकती है:

6CO2 + 6H2O + light (प्रकाश ऊर्जा) -> C6H12O6 + 6O2

यह प्रतिक्रिया ऊर्जा के स्रोत के रूप में प्रकाश ऊर्जा का उपयोग करके कार्बन डाइऑक्साइड और पानी को ग्लूकोज (एक चीनी अणु) और ऑक्सीजन में परिवर्तन का प्रतिनिधित्व करती है। उत्पादित ग्लूकोज का उपयोग पौधे द्वारा ऊर्जा स्रोत के रूप में किया जाता है, और ऑक्सीजन को वातावरण में छोड़ दिया जाता है।

फोटोसिंथेसिस/प्रकाश संश्लेषण की प्रक्रिया का एरो फ्लो चार्ट
फोटोसिंथेसिस/प्रकाश संश्लेषण की प्रक्रिया – एरो फ्लो चार्ट

फोटोसिंथेसिस/प्रकाश संश्लेषण की प्रक्रिया

प्रकाश संश्लेषण पौधे की कोशिकाओं के क्लोरोप्लास्ट भाग में संपन्न होता है। प्रक्रिया को दो चरणों में बांटा गया है: प्रकाश-निर्भर प्रतिक्रियाएँ और प्रकाश-स्वतंत्र प्रतिक्रियाएँ।

क्लोरोप्लास्ट की फोटो

प्रकाश-निर्भर प्रतिक्रियाएँ

प्रकाश-निर्भर प्रतिक्रियाएं क्लोरोप्लास्ट की थायलाकोइड झिल्ली में होती हैं। उन्हें पानी के अणुओं को ऑक्सीजन गैस में बदलने और एटीपी (एडेनोसिन ट्राइफॉस्फेट) और एनएडीपीएच (निकोटिनामाइड एडेनिन डायन्यूक्लियोटाइड फॉस्फेट) का उत्पादन करने के लिए प्रकाश ऊर्जा की आवश्यकता होती है, यही एटीपी और एनएडीपीएच आगे प्रकाश-स्वतंत्र प्रतिक्रियाओं में उपयोग किये जाते हैं।

प्रकाश-स्वतंत्र प्रतिक्रियाएँ

प्रकाश-स्वतंत्र प्रतिक्रियाएं क्लोरोप्लास्ट के स्ट्रोमा में होती हैं। पौधे कार्बन डाइऑक्साइड (CO2) और पानी (H2O) से ग्लूकोज (C6H12O6) का उत्पादन करने के लिए एटीपी (ATP) और एनएडीपीएच (NADPH) की ऊर्जा का उपयोग करते हैं। इस प्रक्रिया को कार्बन फिक्सेशन के रूप में जाना जाता है, और इसके परिणामस्वरूप उप-उत्पादों (BY PRODUCTS) के रूप में ग्लूकोज और ऑक्सीजन (O2) का उत्पादन होता है।

फोटोसिंथेसिस/प्रकाश संश्लेषण को प्रभावित करने वाले कारक

कई पर्यावरणीय और आंतरिक कारक (factors) एक पौधे में प्रकाश संश्लेषण की दर को प्रभावित करते हैं। इनमें से कुछ कारक हैं:

  • प्रकाश की तीव्रता: प्रकाश संश्लेषण की दर एक निश्चित बिंदु तक प्रकाश की तीव्रता के साथ बढ़ती है, उसके आगे यह घटने लग जाती है।
  • कार्बन डाइऑक्साइड सांद्रता: कार्बन डाइऑक्साइड की सांद्रता में वृद्धि के साथ प्रकाश संश्लेषण की दर एक निश्चित बिंदु तक बढ़ जाती है, उसके आगे यह घटने लग जाती है।
  • तापमान: प्रकाश संश्लेषण की दर एक निश्चित बिंदु तक तापमान के साथ बढ़ती है, उसके आगे यह घटने लग जाती है।
  • पानी की उपलब्धता: अगर पौधे को पर्याप्त पानी नहीं मिलता है तो प्रकाश संश्लेषण बहुत कम हो जाता है।

पारिस्थितिक तंत्र में फोटोसिंथेसिस का योगदान एवं भूमिका

प्रकाश संश्लेषण पृथ्वी के पारिस्थितिकी तंत्र (ecosystem) के संतुलन को बनाए रखने के लिए एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया है। यह लगभग सभी खाद्य श्रृंखलाओं को प्राथमिक स्त्रोत उत्पन्न कर आधार प्रदान करती है। प्रकाश संश्लेषण द्वारा उत्पादित ऊर्जा पौधों से शाकाहारियों और फिर मांसाहारियों में स्थानांतरित होती है।

भोजन और ऊर्जा के साथ-साथ, प्रकाश संश्लेषण ऑक्सीजन भी पैदा करता है, जो सभी एरोबिक जीवों, जिनके लिए सांस के लिए ऑक्सीजन ज़रूरी है, के अस्तित्व के लिए आवश्यक है। प्रकाश संश्लेषण कार्बन डाइऑक्साइड लेकर और ऑक्सीजन छोड़कर वायुमंडलीय गैसों के संतुलन को बनाए रखने में भी मदद करता है।

प्रकाश संश्लेषण एक आवश्यक प्रक्रिया है। यह पृथ्वी के पारिस्थितिकी तंत्र के संतुलन को बनाए रखने में अहम भूमिका निभाती है। इसके कारण प्रकाश ऊर्जा, रासायनिक ऊर्जा में परिवर्तित होती है और जीवित जीवों के लिए भोजन और ऑक्सीजन का उत्पादन हो पाता है।


प्रकाश संश्लेषण को परिभाषित कीजिए?

वह विधि जिसके द्वारा पेड़-पौधों भोजन का निर्माण करते हैं, उसे प्रकाश संश्लेषण या फोटोसिंथेसिस कहते हैं। प्रकाश संश्लेषण को अंग्रेजी में फोटोसिंथेसिस कहते हैं। प्रकाश संश्लेषण, पौधों द्वारा कार्बनिक यौगिकों में संग्रहीत प्रकाश ऊर्जा को रासायनिक ऊर्जा में परिवर्तित करने की प्रक्रिया है।

प्रकाश संश्लेषण का उत्पाद है?

प्रकाश संश्लेषण का मुख्य उत्पाद ग्लूकोज और ऑक्सीजन है।

पौधों में प्रकाश संश्लेषण का स्थान है?

प्रकाश संश्लेषण पौधों के लिए ऊर्जा और कार्बनिक यौगिकों का प्राथमिक स्रोत है।

प्रकाश संश्लेषण की क्रिया पौधे के किस भाग में होती है?

प्रकाश संश्लेषण पत्तियों में पर्णमध्यक (मेसोफिल) कोशिकाओं के क्लोरोप्लास्ट में होता है।

प्रकाश संश्लेषण कब होता है?

प्रकाश संश्लेषण सामान्य रूप से दिन के उजाले के दौरान होता है।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *